Titan के स्टॉक्स की बढ़ने वाली है चमक, अभी निवेश से होगा दमदार प्रॉफिट

Titan के स्टॉक्स की बढ़ने वाली है चमक, अभी निवेश से होगा दमदार प्रॉफिट

[ad_1]

Titan की तीसरी तिमाही के नतीजें अच्छ रहे। लेकिन, मार्जिन उम्मीद से कम रहा। इसकी वजह ज्वेलरी पर ज्यादा डिस्काउंट है। नॉन-ज्वेलरी बिजनेस की कॉस्ट पर भी दबाव दिखा। हालांकि, ज्वेलरी बिजनेस में संगठित सेगमेंट की हिस्सेदारी बढ़ रही है, जिसका फायदा टाइटन कंपनी को मिलना तय है। अभी कंपनी का इस सेगमेंट में बाजार हिस्सेदारी 10 फीसदी से कम है, जिससे कंपनी के लिए ग्रोथ की बड़ी संभावनाएं हैं। नॉन-ज्वैलरी बिजनेस की ग्रोथ से भी कंपनी को मजबूती मिलेगी। टाइटन कंजम्प्शन स्पेस का पसंदीदा स्टॉक रहा है। इसकी वजह इसकी मजबूत ब्रांड इमेज और ग्रोथ की संभावना है। साथ ही टाटा समूह की कंपनी होने से भी इस पर ग्राहकों का भरोसा है।

रेवेन्यू ग्रोथ 22 फीसदी

इस वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में कंपनी का रेवेन्यू साल दर साल आधार पर 22 फीसदी बढ़ा है। ज्वेलरी बिजनेस की सेल्स साल दर साल आधार पर 22 फीसदी बढ़ी है। फेस्टिव सीजन यानी अक्टूबर-नवंबर के दौरान मजबूत डिमांड देखने को मिली। कई ब्रांड्स में नई खरीदारों की संख्या में 50 फीसदी इजाफा देखने को मिला। स्टडेड ज्वेलरी की सेल्स साल दर साल आधार पर 14 फीसदी बढ़ी।

यह भी पढ़ें: अपने देश को छोड़ भारत पर अधिक है भरोसा, जापान के रिटेल इनवेस्टर्स धड़ाधड़ खरीद रहे भारतीय शेयर

आई-केयर बिजनेस में हल्की गिरावट

रिटेल ज्वेलरी सेल की ग्रोथ थोड़ी कम रही। साल दर साल आधार पर यह 16 फीसदी बढ़ी। इस पर श्राद्ध पीरियड का असर दिखा। लाइट ज्वेलरी की रिटेल सेल्स साल दर साल आधार पर 37 फीसदी बढ़ी। कैरेट लेन (50,000 रुपये से कम कम टिकट साइज) की लाइक-फॉर-लाइक ग्रोथ सिर्फ 2 फीसदी रही। इससे कम टिकट साइज ज्वेलरी के लिए अपेक्षाकृत कमजोर मांग का पता चलता है। वॉचेज और दूसरे सेगमेंट्स की ग्रोथ स्ट्रॉन्ग रही। आई-केयर बिजनेस में हल्की गिरावट देखने को मिली। इसकी वजह कमजोर इंडस्ट्री डिमांड है।

वॉचेज और वियरेबल की ग्रोथ 25 फीसदी

टाइटन ने अपने नॉन-ज्वेलरी बिजनेस पर फोकस बढ़ाया है। वॉचेज और वेयरेबल सेगमेंट्स की ग्रोथ साल दर साल आधार पर 25 फीसदी रही है। एनालॉग वॉचेज में नए कलेक्शन और प्रीमियम प्रोडक्ट्स का ग्रोथ में खासा योगदान है। कंपनी एथनिक वियर और परफ्यूम में अपने नेटवर्क का विस्तार कर रही है। छोटी अवधि में आई-केयर डिवीजन के नेटवर्क एक्सपैंशन में सुस्ती दिख सकती है। लेकिन, नॉन-ज्वैलरी सेगमेंट से ग्रोथ को सपोर्ट मिलेगा। वित्त वर्ष 2024-25 में अनुमानित कमाई के 71 गुना (P/E) पर कंपनी के शेयरों में ट्रेडिंग हो रही है। हमारा मानना है कि निवेशकों को टाइटन के शयरों में निवेश बढ़ाना चाहिए। कंपनी का शेयर 2 फरवरी को 0.34 फीसदी की कमजोर के साथ 3,615 रुपये पर बंद हुआ।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )