Stocks to Sell: फटाफट बेच डालें ये तीन शेयर, नहीं तो 30% डूब सकता है पैसा

Stocks to Sell: फटाफट बेच डालें ये तीन शेयर, नहीं तो 30% डूब सकता है पैसा

[ad_1]

Stocks to Sell: कंपनियों के दिसंबर 2023 तिमाही के नतीजे सामने आ रहे हैं। इसके आधार पर ब्रोकरेज फर्म इन कंपनियों के शेयरों की रेटिंग कर रहे हैं कि किस कंपनी में निवेश करना चाहिए और किसे बेचना बेहतर होगा। घरेलू ब्रोकरेज फर्म HDFC सिक्योरिटीज ने तीन ऐसे शेयरों को फटाफट बेचने की सलाह दी है जो मौजूदा लेवल से करीब 30 फीसदी टूट सकते हैं। ब्रोकरेज के मुताबिक इंडियन होटल्स (Indian Hotels), अप्टस वैल्यू हाउसिंग फाइनेंस इंडिया (Aptus Value Housing Finance India) और क्लीन साइंस एंड टेक (Clean Science and Technology) मौजूदा लेवल से करीब 30 फीसदी फिसल सकते हैं। इसमें से दो शेयर आज ग्रीन जोन में बंद हुए हैं।

टाटा ग्रुप की हॉस्पिटैलिटी कंपनी इंडियन होटल्स के लिए दिसंबर 2023 तिमाही उम्मीद के मुताबिक ही रही। इसका रेवेन्यू सालाना आधार पर 16.5 फीसदी उछलकर 1960 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। रेवेन्यू को अकुपेंसी के सालाना आधार पर 1.60 फीसदी बढ़कर 69.6 फीसदी और एवरेज रूम रेट के 12 फीसदी बढ़ने से फायदा मिला। इसे अहम लोकेशंस पर डिमांड और सप्लाई में गैप, छुट्टियों और शादियों के चलते यात्राओं के साथ-साथ क्रिकेट वर्ल्ड कप से सपोर्ट मिला। EBITDA मार्जिन 1.90 फीसदी बढ़कर 37.3% हो गया।

कंपनी ने हाल ही में अपना 200वां होटल लॉन्च किया है और 2027 तक कुल होटलों की संख्या 280 तक जाने की उम्मीद है। ब्रोकरेज का मानना है कि इसका अकुपेंसी और एवरेट रूम रेट मौजूदा लेवल से ऊपर जाने की उम्मीद है। ग्रोथ की इतनी मजबूत गुंजाइश के बावजूद चूंकि इसके शेयर पिछले साल 59 फीसदी चढ़े थे जिसके चलते ब्रोकरेज ने इसकी रेटिंग को घटाकर रिड्यूस कर दी है और टारगेट प्राइस 456 रुपये फिक्स किया है। यह मौजूदा भाव से करीब 10 फीसदी डाउनसाइड है। इसके शेयर आज BSE पर 0.49 फीसदी की गिरावट के साथ 506.10 रुपये पर बंद हुए हैं।

Yes Bank के शेयरों में 13% का उछाल, इस कारण जमकर हो रही खरीदारी

Aptus Value Housing Finance India

एप्टस वैल्यू हाउसिंग फाइनेंस इंडिया की लोन ग्रोथ सालाना आधार पर 28 फीसदी रही और ऑपरेटिंग एक्सपेंडिचर में सुधार हुआ और यह एसेट अंडर मैनेजमेंट का 2.6 फीसदी रहा। क्रेडिट कॉस्ट लगभग स्थिर बनी रही। ब्रोकरेज के मुताबिक ये नतीजे उसके अनुमान के मुताबिक ही रहे। एप्टस का फोकस एलआईजी, सेल्फ एंप्लॉयड, गांवों के कस्टमर्स पर बना हुआ है और यह लगातार अपना भौगोलिक विस्तार कर रही है। हालांकि कॉम्पटीशन के बढ़ते माहौल के साथ-साथ सामान्य से अधिक रिस्क-एडजस्टेड मार्जिन के चलते इसकी लोन ग्रोथ और प्रॉफिटेबिलिटी में गिरावट का रिस्क बना हुआ है। इस कारण ब्रोकरेज ने रिड्यूस रेटिंग में कोई बदलाव तो नहीं किया है लेकिन टारगेट प्राइस भी घटाकर 280 रुपये कर दिया है। यह टारगेट प्राइस मौजूदा लेवल से करीब 25 फीसदी डाउनसाइड है। इसके शेयर आज बीएसई पर 0.83 फीसदी की बढ़त के साथ 374.90 रुपये पर बंद हुए हैं।

रिकॉर्ड निचले स्तर से Paytm में शानदार रिकवरी, शेयरों में 7% का उछाल

Clean Science and Technology

ब्रोकरेज ने क्लीन साइंस एंड टेक की सेल रेटिंग में कोई बदलाव नहीं किया है। इसकी वजह ये है कि प्लास्टिक और पॉलीमर्स में इस्तेमाल होने वाले स्टेबलाइजर्स HALs (हिंडर्ड ऐमीन लाइट स्टैबलाइजर्स) की ग्रोथ अनुमान से कम होने के साथ-साथ परफॉरमेंस केमिकल्स की बिक्री भी कम हो रही है। ब्रोकरेज के मुताबिक इसका ग्रॉस प्रॉफिट मार्जिन वित्त वर्ष 2023 में 65 फीसदी से वित्त वर्ष 2026 तक 5.17 फीसदी टूट सकता है तो EBITDA मार्जिन भी इस दौरान 3.41 फीसदी कम हो सकता है। वित्त वर्ष 2023 में इसका EBITDA मार्जिन 43 फीसदी पर था।

Zomato-Swiggy को टक्कर देगी टाटा, Tata Neu की ये है तैयारी

वैश्विक स्तर की दिग्गज कंपनियां HALs और HALs के इंटरमीडिएट्स की अपनी क्षमता बढ़ा रही हैं। इन सब वजहों से ब्रोकरेज ने इसकी सेल रेटिंग को बरकरार रखा है और टारगेट 980 रुपये पर फिक्स किया है। मौजूदा लेवल से यह टारगेट 30 फीसदी से अधिक डाउनसाइड है। आज BSE पर यह 0.36 फीसदी की बढ़त के साथ 1405 रुपये पर बंद हुआ है।

डिस्क्लेमर: मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए सलाह या विचार एक्सपर्ट/ब्रोकरेज फर्म के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदायी नहीं है। यूजर्स को मनीकंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले हमेशा सर्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )