Paytm : तिमाही नतीजों के बाद CLSA ने अपग्रेड की रेटिंग, टारगेट प्राइस भी बढ़ाया

Paytm : तिमाही नतीजों के बाद CLSA ने अपग्रेड की रेटिंग, टारगेट प्राइस भी बढ़ाया

[ad_1]

Paytm : फिनटेक कंपनी पेटीएम ने हाल ही में मौजूदा वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के नतीजे जारी किए हैं, जिसके बाद अब ब्रोकरेज फर्म CLSA ने स्टॉक को अपग्रेड किया है। ब्रोकरेज हाउस ने इसे “आउटपरफॉर्म” से “बाय” रेटिंग में अपग्रेड किया है। तिमाही नतीजों के बाद शनिवार को पेटीएम की पेरेंट कंपनी वन 97 कम्युनिकेशंस के शेयरों में 1.33 फीसदी की तेजी आई और यह स्टॉक 784.20 रुपये के भाव पर बंद हुआ है। इस तेजी के साथ कंपनी का मार्केट कैप बढ़कर 49,803 करोड़ रुपये हो गया। इसका 52-वीक हाई 998.30 रुपये और 52-वीक लो 502.65 रुपये है।

ब्रोकरेज ने बढ़ाया टारगेट प्राइस

ब्रोकरेज फर्म CLSA ने स्टॉक के लिए अपने टारगेट प्राइस को भी 925 रुपये से बढ़ाकर 960 रुपये कर दिया है। हालांकि, यह टारगेट स्टॉक के आईपीओ प्राइस ₹2,150 से 55% कम है। वहीं, मौजूदा प्राइस के मुकाबले कंपनी के शेयरों में 22 फीसदी से अधिक की तेजी की संभावना जताई गई है। ब्रोकरेज का मानना है कि कंपनी अपने बाय नॉव पे लेटर (BNPL) कारोबार को कम करने के बाद अधिक डायवर्सिफिकेशन कर रही है। वहीं, मार्च तिमाही में और अधिक डायवर्सिफिकेशन की उम्मीद है।

ब्रोकरेज ने कहा है कि पेटीएम नए रेवेन्यू सोर्स और लागत में कमी के जरिए अपने BNPL बिजनेस लॉस के बड़े हिस्से की भरपाई करना चाहेगा। पेटीएम की योजना अगले छह महीनों में 5-6 और पार्टनर जोड़ने की है। हालांकि ब्रोकरेज ने आगे कहा कि कंपनी के लिए हाई-टिकट वाले पर्सनल लोन को बढ़ाना मुश्किल होगा। फिर भी, इसने वित्तीय वर्ष 2025 – 2026 के लिए पेटीएम के लिए अपने कोर EBITDA अनुमान को 3% बढ़ा दिया है। पेटीएम पर नज़र रखने वाले 16 विश्लेषकों में से 11 ने स्टॉक को “खरीदने” की सलाह दी है, जबकि पांच ने “बेचने” की रेटिंग दी है।

कैसे रहे तिमाही नतीजे

वन97 कम्युनिकेशंस (Paytm) का कंसॉलिडेटेड रेवेन्यू 38 पर्सेंट की बढ़ोतरी के साथ 2,850 करोड़ रुपये रहा। पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी का रेवेन्यू 2,062 करोड़ रुपये था। कंपनी के रेवेन्यू में ग्रोथ की मुख्य वजह फेस्टिव सीजन के दौरान कंपनी की तेज ग्रोथ है। इस दौरान कंपनी का नुकसान घटकर 221 करोड़ रुपये हो गया, जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में यह आंकड़ा 392 करोड़ रुपये था। बहरहाल, पेटीएम के रेवेन्यू में हर साल 13 पर्सेंट की बढ़ोतरी हुई, जबकि उसके नुकसान में 23 पर्सेंट की गिरावट देखने को मिली।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Disqus ( )