MC Interview- बजट 2024 के बाद ये 3 सेक्टर्स हैं ग्रीन पोर्टफोलियो के दिवम शर्मा के रडार पर

MC Interview- बजट 2024 के बाद ये 3 सेक्टर्स हैं ग्रीन पोर्टफोलियो के दिवम शर्मा के रडार पर

[ad_1]

Budget 2024- ग्रीन पोर्टफोलियो पीएमएस (Green Portfolio PMS) के संस्थापक और फंड मैनेजर दिवम शर्मा (Divam Sharma) ने मनीकंट्रोल को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ”अंतरिम बजट के बाद एक्वाकल्चर (Aquaculture), बुनियादी ढांचा (infrastructure) और हरित ऊर्जा (green energy ) सेक्टर हमारे रडार पर हैं।” उनका कहना है कि एक्वाकल्चर पर फोकस करने से भारत में नीली क्रांति (blue revolution) आएगी। वहीं एक बड़ी विकासशील अर्थव्यवस्था के रूप में भारत के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर और ग्रीन एनर्जी में सरकार का निवेश जरूरी है। शेयर बाजारों में निवेश प्रबंधन में 13 वर्षों से अधिक के अनुभव वाले दिवम का कहना है कि 2070 तक भारत के कार्बन न्यूट्रल बनने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए बिजली और इलेक्ट्रिक वाहन क्षेत्रों में प्रभावशाली प्रदर्शन देखने को मिल सकता है। पेश है उनसे बातचीत के प्रमुख संपादित अंश:

आप बजट को 1 से 10 के पैमाने पर कैसे आंकते हैं?

अगर हम ताजा घोषणाओं और विकास के परिप्रेक्ष्य से देखें तो इसे 1 नंबर देंगे क्योंकि कुछ भी महत्वपूर्ण घोषणा नहीं की गई है। लेकिन अगर हम देखें कि यह किस लिए था, तो इसको 10 अंक दूंगा। इसकी वजह ये है कि मौजूदा सरकार के लिए अगले चार महीनों तक काम करने के लिए ये एक वोट-ऑन-अकाउंट था। वित्त मंत्री ने आगामी चुनावों में जीत सुनिश्चित करने के लिए सत्तारूढ़ पार्टी की उपलब्धियों का बखान करते हुए बहुत अच्छा काम किया। आज बिल्कुल यही अपेक्षित भी था।

अंतरिम बजट के बाद आपके रडार पर कौन से सेक्टर हैं?

उन्होंने कहा एक्वाकल्चर, इंफ्रास्ट्रक्चर, और ग्रीन एनर्जी के सेक्टर हमारे रडार पर हैं। हम इन सेक्टर्स में निवेश करते हैं और हमें उम्मीद थी कि इस साल इन पर कुछ ध्यान दिया जाएगा। एक्वाकल्चर पर फोकस करने से भारत में ब्लू रिवॉल्यूशन आएगा। एक बड़ी विकासशील अर्थव्यवस्था के रूप में देश के लिए बुनियादी ढांचे और ग्रीन एनर्जी सेक्टर में सरकार का निवेश करना जरूरी है।

Interim Budget में कुछ भी नया नहीं; एनर्जी, पावर, PSUs, मेटल, सीमेंट सेक्टर पर हमारा फोकस- संदीप टंडन, Quant’s ग्रुप

क्या आपको आने वाले वर्षों में पावर और इलेक्ट्रिकल वाहन (EV) सेगमेंट से बड़े रिटर्न की उम्मीद है?

बजट में वित्तमंत्री ने ग्रीन एनर्जी पर बहुत जोर दिया। छत पर सौर ऊर्जा लगाने से लेकर MUFT एनर्जी तक और पवन ऊर्जा पर फोकस बढ़ाया। एक फंड हाउस के रूप में हमने कई कंपनियों में निवेश किया है जो इलेक्ट्रिकल वाहन सेगमेंट में प्रॉक्सी गेम में हैं। इन कंपनियों ने अच्छे ऑर्डर बुक और PLI स्कीम्स के जरिये सरकार द्वारा दिए गए प्रोत्साहन के दम पर शानदार प्रदर्शन किया है।

भारत EV कारोबार के मामले में चीन और अमेरिका जैसे अन्य देशों की तुलना में केवल 1-1.5 प्रतिशत पीछे है। टेस्ला भारत में एक मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने के बारे में भी बातचीत कर रही है। इससे भारत एक उभरता हुआ टॉप मैन्युफैक्चरिंग स्थान के रूप में दिख रहा है। भारत के 2070 तक कार्बन न्यूट्रल बनने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए, हम इन सेक्टर्स में अच्छा प्रदर्शन देख सकते हैं।

सरकार ने FY24 के लिए अपने विनिवेश लक्ष्य को 50,000 करोड़ रुपये से घटाकर 30,000 करोड़ रुपये कर दिया है और FY25 के लिए इसे 50,000 करोड़ रुपये रखा है। क्या आपको लगता है कि पीएसयू शेयरों में तेजी को देखते हुए लक्ष्य हासिल होगा?

दिवम शर्मा ने कहा कि हम पीएसयू में निवेश नहीं करते हैं। इसलिए, हम वित्त वर्ष 2024 के लिए 30,000 करोड़ रुपये के कम विनिवेश लक्ष्य की प्राप्ति का आकलन नहीं कर पाएंगे या पीएसयू स्टॉक्स की रैली को देखते हुए वित्त वर्ष 2025 के लिए 50,000 करोड़ रुपये के लक्ष्य से अधिक की संभावना पर अनुमान नहीं लगा पाएंगे।

क्या आप PSU Bank इंडेक्स पर बड़ा दांव लगा रहे हैं जो सुस्त बाजार में बड़ा आउटपरफॉर्मर है? क्या हैं इसके प्रमुख कारण?

कमजोर बाजार में उल्लेखनीय रूप से बेहतर प्रदर्शन के बावजूद PSU में हमारा कोई महत्वपूर्ण निवेश नहीं है।

(डिस्क्लेमरः Moneycontrol.com पर दिए जाने वाले विचार और निवेश सलाह निवेश विशेषज्ञों के अपने निजी विचार और राय होते हैं। Moneycontrol यूजर्स को सलाह देता है कि वह कोई निवेश निर्णय लेने के पहले सर्टिफाइड एक्सपर्ट से सलाह लें।)

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )