LIC IPO के निवेशकों के लिए बड़ी राहत, लिस्टिंग के 21 महीने बाद स्टॉक पहली बार इश्यू प्राइस के पार

LIC IPO के निवेशकों के लिए बड़ी राहत, लिस्टिंग के 21 महीने बाद स्टॉक पहली बार इश्यू प्राइस के पार

[ad_1]

LIC IPO : देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया यानी LIC के IPO निवेशकों के लिए राहत की खबर है। लिस्टिंग के करीब 21 महीने के बाद स्टॉक ने अपने इश्यू प्राइस के लेवल को पार कर लिया है। कंपनी के शेयरों में आज 30 जनवरी को 4 फीसदी से अधिक की तेजी देखी गई। इसने इंट्राडे में 954.85 रुपये के लेवल को छू लिया। LIC का आईपीओ मई 2022 में आया था, तब इसके लिए 902-949 रुपये का प्राइस बैंड तय किया गया था। आज की शानदार तेजी के साथ ही कंपनी का मार्केट कैप बढ़कर 5,91,513 करोड़ रुपये हो गया है।

लिस्टिंग पर हुआ था 8% से अधिक का नुकसान

LIC के शेयरों की लिस्टिंग 17 मई 2022 को हुई थी। कंपनी के शेयर डिस्काउंट पर लिस्ट हुए थे। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर एलआईसी के शेयर की लिस्टिंग 8.62 फीसदी डिस्काउंट पर 867.20 रुपये के भाव पर हुई थी। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर ये स्टॉक 872 रुपये पर लिस्ट हुआ था।

10 महीनों में 75 फीसदी का उछाल

लिस्टिंग के बाद भी कंपनी के शेयरों में गिरावट जारी रही। स्टॉक ने BSE पर 29 मार्च 2023 को 530.20 रुपये के निचले स्तर को छू लिया था। हालांकि, इसके बाद LIC के शेयरों में दमदार रैली देखी गई। पिछले करीब 10 महीनों में बीमा कंपनी के शेयरों में करीब 75 फीसदी की शानदार रैली आ चुकी है।

HDFC Bank में हिस्सेदारी खरीदने की मंजूरी

हाल ही में LIC को HDFC Bank में 9.99 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की मंजूरी मिली है। LIC के पास बैंक में दिसंबर 2023 तक 5.19 फीसदी हिस्सेदारी थी। इसका मतलब है कि LIC अब बैंक में 4.8 फीसदी और हिस्सेदारी खरीद सकती है। LIC के पास हिस्सेदारी खरीदने के लिए एक साल का समय है। मार्केट एक्सपर्ट्स का मानना है कि एलआईसी की 4.8 फीसदी की अतिरिक्त हिस्सेदारी खरीदने का प्रस्ताव ऐसे समय में आया है जब बैंक के शेयर का मूल्यांकन भारी गिरावट के बाद अट्रैक्टिव हो गया है। LIC का नेट प्रॉफिट Q2FY24 में सालाना आधार पर 50 फीसदी गिरकर 7,925 करोड़ रुपये हो गया। एक साल पहले की समान अवधि में इसने 15,952 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट दर्ज किया था।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Disqus ( )