Jio Financial ने बताया बिजनेस प्लान, लेंडिंग बिजनेस के इस सेगमेंट पर रहेगा कंपनी का जोर

Jio Financial ने बताया बिजनेस प्लान, लेंडिंग बिजनेस के इस सेगमेंट पर रहेगा कंपनी का जोर

[ad_1]

Jio Financial Services Share Price: जियो फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (JFSL) ने मौजूदा वित्त वर्ष की दिसंबर तिमाही में 294 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा दर्ज किया है। इन्हें पिछले साल के आंकड़े से तुलना नहीं किया जा सकता। हालांकि तिमाही आधार पर इसमें तेज गिरावट आई है। यह गिरावट एसोसिएट्स और ज्वाइंट्स वेंचर्स से डिविडेंड इनकम नहीं जुड़ने और ऑपरेटिंग खर्च बढ़ने के चलते आई है। जियो फाइनेंशियल सर्विसेज को हाल ही में रिलायंस इंडस्ट्रीज से अलग कर शेयर बाजार में सूचीबद्ध कराया गया है, हालांकि अभी तक कंपनी ने पूरी तरह से अपना कारोबार नहीं शुरू किया है।ऐसे में तिमाही आय का फिलहाल कोई खास असर नहीं है।

हालांकि जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के महत्व को इंडस्ट्री में कम नहीं किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि रिलायंस ने अभी तक जिन सेक्टर्स में कदम रखा है, उसमें वह अग्रणी कंपनी रही है। रिलायंस इंडस्ट्री की टेलीकॉम यूनिट, जियो टेलीकॉम, पिछले 7 सालों में शून्य से शुरू होकर देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम ऑपरेटर बन गई है।

रिटेल इंडस्ट्री में, रिलायंस इंडस्ट्री की सहायक कंपनी, रिलायंस रिटेल अपनी पहुंच, पैमाने और मुनाफे के मामले में देश की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक बनकर उभरी है। इसलिए सभी की निगाहें अब इसकी फाइनेंशियल सर्विसेज यूनिट के नए वेंचर पर हैं।

वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही के नतीजों के बाद, जियो फाइनेंशियल ने एक अर्निंग कॉल आयोजित की, जिसमें कंपनी के शुरुआती कारोबारी गतिविधियों को लेकर कुछ जानकारी मिली।

यह भी पढ़ें- Hot Stocks: इन तीन शेयरों पर लगाएं दांव, फटाफट 11% मुनाफा कमाने का मौका

जियो फाइनेंशियल सर्विसेज की रणनीति वित्तीय सेवाओं का लोकतंत्रीकरण करना है। इसके लिए कंपनी सरल और इनोवेटिव और सहज प्रोडक्ट लॉन्च करेगी, जिन्हें डिजिटल तरीके से बांटा जाएगा। कंपनी का लक्ष्य 2 तरीकों के ग्राहकों को सेवाएं देना है- मर्चेंट्स और एंड-कंज्यूमर्स।

रिलायंस इंडस्ट्री के पास टेलीकॉम और रिेटेल बिजनेस में एक बड़ा कस्टमर बेस है। जियो फाइनेंशियल के इस कस्टमर को भुनाने की उम्मीद है। जियो फाइनेशिंयस सभी तरह के सिक्योर्ड और अनिसिक्योर्ड लोन प्रोडक्ट लॉन्च करने की तैयारी में है। हालांकि इसका फोकस सिक्योर्ड लेंडिंग पर होगा।

कंपनी कंज्यूमर डिवाइसों (एयरफाइबर, फोन, लैपटॉप) को फाइनेंस और लीज ऑपरेट मुहैया कराने के लिए एक अलग सहायक कंपनी बनाने की योजना बना रही है। यह सप्लाई-चेन फाइनेंसिंग सॉल्यूशंस में कदम रखने की तैयारी कर रही है। साथ ही शेयर और म्यूचुअल फंड के बदले लोन जैसे सिक्योर्ड प्रोडक्ट पर भी विचार कर रही है।

JFSL के पास अपने लेंडिंग बिजनेस को बढ़ाने के लिए पर्याप्त संसाधन हैं। जेएफएसएल के पास उधार कारोबार को बढ़ाने के लिए पर्याप्त संसाधन है। सितंबर 2023 के अंत तक JFSL की कुल नेटवर्थ 1,15,500 करोड़ रुपये थी, जिसका लाभ वह लेंडिंग बिजनेस को बढ़ाने के लिए उठा सकता है। इसके अलावा, कंपनी को बेस्ट क्रेडिट रेटिंग (AAA) मिलने की संभावना है। इसके चलते यह कॉम्पिटिटीव रेट पर पैसे जुटा सकती है जो कई अन्य NBFC और फिनटेक कंपनियों पर बढ़त हो सकता है।

मनीकंट्रोल, नेटवर्क18 ग्रुप का हिस्सा है। नेटवर्क18 का नियंत्रण इंडिपेंडेट मीडिया ट्रस्ट करता है, जिसकी एकमात्र लाभार्थी रिलायंस इंडस्ट्रीज है।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )