ITI के शेयरों में 20% का उछाल, एक साल में 256% चढ़े शेयर, क्या है वजह?

ITI के शेयरों में 20% का उछाल, एक साल में 256% चढ़े शेयर, क्या है वजह?

[ad_1]

ITI लिमिटेड के शेयरों में आज 16 जनवरी को 20 फीसदी तक की दमदार रैली देखी गई। यह स्टॉक 19.20 फीसदी की बढ़त के साथ 375.65 रुपये के भाव पर बंद हुआ है। स्टॉक ने आज इंट्राडे में 378.15 रुपये के अपने 52-वीक हाई को छू लिया। इसका 52-वीक लो 86.50 रुपये है। यह पब्लिक सेक्टर की कंपनी है जिसने अपने निवेशकों को कम समय में जबरदस्त रिटर्न दिया है। आज की तेजी के साथ कंपनी का मार्केट कैप बढ़कर 36,095.72 करोड़ रुपये हो गया है।

शेयरों में जबरदस्त तेजी

पिछले साल सितंबर से इस शेयर में तेजी शुरू हुई है। सितंबर से अब तक कंपनी के शेयरों में करीब 210 फीसदी का उछाल आया है। दरअसल, सरकारी कंपनी ने कहा कि उसने Smaash ब्रांड के तहत लैपटॉप और माइक्रो पीसी डेवलप किए हैं, जो भारत में लैपटॉप मैन्युफैक्चरिंग में कंपनी की एंट्री का संकेत है। कंपनी ने हाल ही में कहा कि उसने मुकेश मंगल को तीन साल के लिए या रिटायरमेंट की तारीख तक या अगले आदेश तक, जो भी पहले हो, बोर्ड में सरकारी निदेशक नियुक्त किया है।

शेयरों में तेजी के बीच कंपनी को देनी पड़ी सफाई

दिसंबर में शेयर वॉल्यूम में बढ़ोतरी के बाद कंपनी को एक बयान जारी करना पड़ा। 21 दिसंबर को कंपनी ने कहा, “हम यह पुष्टि करना चाहते हैं कि आज की तारीख में ऐसा कोई मामला/घटना नहीं है जो स्टॉक एक्सचेंजों के खुलासे के लिए पेंडिंग हो, जिसका कंपनी के शेयर में प्राइस/वॉल्यूम बिहैवियर पर असर पड़ सकता है।”

कंपनी ने आगे कहा, “जहां तक शेयरों के ट्रेड वॉल्यूम/शेयर प्राइस का मामला है, यह पूरी तरह से बाजार की स्थितियों पर आधारित है और कंपनी वॉल्यूम या शेयर प्राइस में किसी भी वृद्धि या गिरावट या शेयर बाजार की स्थितियों में किसी भी बदलाव के लिए जिम्मेदार नहीं है।”

तिमाही नतीजे

सितंबर में समाप्त तिमाही में आईटीआई ने 246.47 करोड़ रुपये की शुद्ध बिक्री दर्ज की, जो कि एक साल पहले की अवधि से 24.76 प्रतिशत अधिक है। लेकिन इसका घाटा 25.38 फीसदी बढ़कर 125.80 करोड़ रुपये हो गया। तिमाही के लिए EBITDA 43.19 करोड़ रुपये पर नेगेटिव रहा, जिसमें सालाना 12.65 फीसदी की गिरावट आई है।

कंपनी के बारे में

आईटीआई लिमिटेड टेलीकम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी सेगमेंट में एक पब्लिक सेक्टर की कंपनी है। इसे 1948 में एक डिपार्टमेंटल फैक्ट्री के रूप में स्थापित किया गया था। कंपनी के पास बेंगलुरु, नैनी, रायबरेली, मनकापुर और पलक्कड़ में मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी हैं, साथ ही बेंगलुरु में एक अनुसंधान एवं विकास केंद्र और भारत में 25 मार्केटिंग, सर्विसेड और प्रोजेक्ट्स (MSP) सेंटर हैं। ये बेंगलुरु, भुवनेश्वर, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, नई दिल्ली और देश भर में फैले 17 अन्य जगहों पर स्थित हैं।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )