IRFC के शेयरों में 10% का अपर सर्किट, मार्केट कैप 2.30 लाख करोड़ के पार, क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

IRFC के शेयरों में 10% का अपर सर्किट, मार्केट कैप 2.30 लाख करोड़ के पार, क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

[ad_1]

IRFC Share price : इंडियन रेलवे फाइनेंस कॉरपोरेशन यानी IRFC के शेयरों में आज 10 फीसदी का अपर सर्किट लगा। यह स्टॉक BSE पर 176.39 रुपये के भाव पर बंद हुआ है, जो कि इसका रिकॉर्ड हाई है। पिछले 9 कारोबारी दिनों में इस स्टॉक में 76 फीसदी की दमदार रैली आ चुकी है। आज की तेजी के साथ कंपनी का मार्केट कैप 2.30 लाख करोड़ रुपये के लेवल को पार कर गया है। इसके साथ ही IRFC सबसे अधिक मार्केट कैप वाला रेलवे स्टॉक बन गया है। इतना ही नहीं, कंपनी की बाजार हैसियत अब M&M, बजाज ऑटो और 19 अन्य निफ्टी 50 स्टॉक्स से भी अधिक हो गई है।

आईपीओ प्राइस से 6 गुना बढ़ी शेयर की कीमत

2021 में लिस्टिंग के बाद पहले दो सालों में स्टॉक में कोई खास हलचल नहीं दिखी। लेकिन इसके बाद 2023 में IRFC के शेयरों में 200 फीसदी से अधिक की तेजी आई है। स्टॉक ने शेयर मार्केट में अपनी शुरुआत ₹26 के इश्यू प्राइस से डिस्काउंट पर की थी। हालांकि, आज के उछाल के साथ स्टॉक अब अपने आईपीओ प्राइस यानी 26 रुपये से 6 गुना ऊपर पहुंच गया है।

जनवरी महीने में स्टॉक में 75 फीसदी की तेजी आ चुकी है, जो कि किसी एक महीने में स्टॉक के लिए अब तक की सबसे अधिक बढ़त है। इससे पहले पिछले साल सितंबर महीने में स्टॉक में 53 फीसदी की तेजी आई थी।

तेज उतार-चढ़ाव की संभावना

ध्यान देने वाली बात यह है कि मार्केट में IRFC शेयरों का बहुत कम फ्री फ्लोट उपलब्ध है। सरकार के पास अभी भी कंपनी में 86.36 फीसदी हिस्सेदारी है, जिससे मार्केट में फ्री फ़्लोट केवल 13.5 फीसदी के आसपास उपलब्ध है। फ्री फ्लोट की उपलब्धता की कमी का मतलब है कि स्टॉक की कीमत में तेज उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा। मौजूदा मार्केट प्राइस के आधार पर IRFC में सरकार की हिस्सेदारी का मूल्य ₹1.8 लाख करोड़ है।

एक्सपर्ट्स की राय

नेपियन कैपिटल के गौतम त्रिवेदी ने CNBC-TV18 से बातचीत में कहा कि IRFC समेत NBFC फिलहाल अट्रैक्टिव हैं। मौजूदा कीमतों पर IRFC 4.5x की प्राइस-टू-बुक वैल्यू पर ट्रेड कर रहा है। IRFC के शेयर अपने शेयरहोल्डर लॉक-इन पीरियड के खत्म होने से पहले बढ़ रहे हैं। नुवामा अल्टरनेटिव एंड क्वांटिटेटिव रिसर्च के एक नोट के अनुसार IRFC की डेढ़ साल और उससे अधिक की लॉक-इन अवधि 29 जनवरी को समाप्त हो रही है। इसके साथ IRFC के 261 करोड़ से अधिक शेयर या उसकी बकाया इक्विटी का 20% ट्रेडिंग के लिए पात्र हो जाएंगे।

William O’Neill India के मयूरेश जोशी ने कहा, “रेलवे स्टॉक बुलेट ट्रेन की स्पीड से आगे बढ़ रहे हैं। मुझे लगता है कि स्ट्रक्चरल स्टोरी शायद जारी रहेगी। अच्छी ऑर्डर बुक से उन्हें अगले 4-5 सालों में रेवेन्यू विजिबिलिटी मिल रही है और पिछली कुछ तिमाहियों में एग्जीक्यूशन शानदार रहा है।

उन्होंने कहा, “हम IRFC, RVNL, Railtel जैसे कुछ शेयरों को अपने पोर्टफोलियो में शामिल करना जारी रख रहे हैं। हालांकि नए निवेशकों को गिरावट का इंतजार करना चाहिए क्योंकि वे कुछ ज्यादा ही ऊपर चढ़ गए हैं।”

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )