FPI फिर बने सेलर, जनवरी में अब तक भारतीय शेयरों से निकाले ₹13000 करोड़

FPI फिर बने सेलर, जनवरी में अब तक भारतीय शेयरों से निकाले ₹13000 करोड़

[ad_1]

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI or Foreign Portfolio Investors) ने जनवरी के पहले तीन सप्ताह में अब तक काफी सतर्क रुख अपनाते हुए भारतीय शेयर बाजारों से 13,000 करोड़ रुपये से अधिक निकाले हैं। भारतीय शेयरों की हाई वैल्यूएशन और अमेरिका में बॉन्ड पर यील्ड बढ़ने की वजह से FPI सेलर बने हुए हैं। अमेरिका में 10 साल के बॉन्ड पर यील्ड 3.9 प्रतिशत के हालिया स्तर से बढ़कर 4.15 प्रतिशत हो गई है। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, इस रुख के उलट विदेशी निवेशक ऋण या बॉन्ड बाजार को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने जनवरी में अब तक बॉन्ड बाजार में 15,647 करोड़ रुपये डाले हैं।

इससे पहले FPI ने दिसंबर में बॉन्ड बाजार में 18,302 करोड़ रुपये, नवंबर में 14,860 करोड़ रुपये और अक्टूबर में 6,381 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया था। आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 19 जनवरी तक भारतीय शेयरों से 13,047 करोड़ रुपये की निकासी की है। उन्होंने 17-19 जनवरी के दौरान 24,000 करोड़ रुपये से अधिक के शेयर बेचे। इससे पहले दिसंबर में FPI ने शेयरों में शुद्ध रूप से 66,134 करोड़ रुपये और नवंबर में 9,000 करोड़ रुपये डाले थे।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, FPI की ओर से बड़े पैमाने पर बिकवाली की एक वजह HDFC बैंक के निराशाजनक तिमाही नतीजे भी हैं। भारत के अलावा FPI ताइवान, दक्षिण कोरिया और हांगकांग जैसे अन्य उभरते बाजारों में भी बड़े विक्रेता रहे। वर्ष 2023 में FPI ने शेयरों में शुद्ध रूप से 1.71 लाख करोड़ रुपये और डेट या बॉन्ड बाजार में 68,663 करोड़ रुपये डाले। इस प्रकार गुजरे साल पूंजी बाजार में उनका कुल निवेश 2.4 लाख करोड़ रुपये रहा। साल 2023 की शुरुआत FPIs ने आउटफ्लो के साथ की थी।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )