FPI ने जनवरी में अब तक भारतीय शेयरों से निकाले ₹24700 करोड़, बॉन्ड मार्केट में लगातार कर रहे निवेश

FPI ने जनवरी में अब तक भारतीय शेयरों से निकाले ₹24700 करोड़, बॉन्ड मार्केट में लगातार कर रहे निवेश

[ad_1]

अमेरिका में बॉन्ड पर यील्ड बढ़ने के बीच विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI or Foreign Portfolio Investors) ने जनवरी माह में अब तक भारतीय शेयर बाजारों से 24700 करोड़ रुपये निकाले हैं। इसकी वजह से कई शेयरों में गिरावट देखी गई। दूसरी ओर डेट/बॉन्ड बाजार को लेकर उनका उत्साह बरकरार है। जनवरी माह में अब तक उन्होंने भारतीय बॉन्ड बाजार में 17120 करोड़ रुपये का निवेश किया। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, FPI ने 25 जनवरी 2024 तक भारतीय शेयरों से शुद्ध रूप से 24734 करोड़ रुपये निकाले हैं। इससे पहले दिसंबर में FPI ने 66134 करोड़ रुपये और नवंबर में 9000 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया था।

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इनवेस्टमेंट स्ट्रैटेजिस्ट वी के विजयकुमार का कहना है कि अमेरिका में बॉन्ड पर बढ़ती यील्ड चिंता का विषय है और इसकी वजह से हाल के दिनों में FPI भारतीय बाजार में बिकवाल बने हुए हैं। आगे कहा कि अमेरिका में 10 साल के बॉन्ड पर यील्ड बढ़कर फिर से 4.18 प्रतिशत पर पहुंच गई है। इससे संकेत मिलता है कि फेडरल रिजर्व की ओर से ब्याज दर में कटौती 2024 की दूसरी छमाही में ही होगी।

स्टॉक्स की ऊंची वैल्यूएशन भी है एक वजह

मॉर्निंगस्टार इनवेस्टमेंट रिसर्च इंडिया के एसोसिएट डायरेक्टर-मैनेजर रिसर्च हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि FPI ने नए साल की शुरुआत सतर्क रुख के साथ की और ऊंची वैल्यूएशन की वजह से भारतीय बाजार में मुनाफा काटा। इसके अलावा ब्याज दर को लेकर अनिश्चितता की वजह से भी वे निवेश से बच रहे हैं और भारत जैसे उभरते बाजारों में निवेश के संबंध में कोई निर्णय लेने से पहले और संकेतकों का इंतजार कर रहे हैं।

सेंसेक्स की टॉप 10 कंपनियों में से 7 का m-cap ₹1.16 लाख करोड़ घटा, कौन रहा सबसे ज्यादा नुकसान में

आंकड़ों के अनुसार, FPI ने दिसंबर में बॉन्ड बाजार में 18302 करोड़ रुपये, नवंबर में 14860 करोड़ रुपये और अक्टूबर में 6381 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया था। 2023 में FPI ने शेयरों में 1.71 लाख करोड़ रुपये और बॉन्ड बाजार में 68663 करोड़ रुपये डाले थे। इस तरह पूंजी बाजार में उनका कुल निवेश 2.4 लाख करोड़ रुपये रहा था।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )