Commodity market : अमेरिकी महंगाई और खुदरा बिक्री आंकड़ों पर रहेगी नजर, चीन में छुट्टियों के चलते मेटल्स में नरमी की उम्मीद

Commodity market : अमेरिकी महंगाई और खुदरा बिक्री आंकड़ों पर रहेगी नजर, चीन में छुट्टियों के चलते मेटल्स में नरमी की उम्मीद

[ad_1]

रवींद्र राव, कोटक सिक्योरिटीज

Commodity markets : फाइनेंशियल मार्केट में बीते हफ्ते काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। बाजार पर अमेरिकी फ़ेडरल रिज़र्व के रुख में बदवाल चीन के आर्थिक संकेतकों और मध्य पूर्व में बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव का असर देखने को मिला। फेडरल ओपन मार्केट कमेटी (एफओएमसी) के अधिकारियों की टिप्पणियों और मजबूत अमेरिकी आर्थिक आंकड़ों से फेडरल रिजर्व द्वारा दर में जल्द कटौती की उम्मीदें कमजोर होती दिखीं। फेडरल रिजर्व के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल ने कहा कि हाल की घटनाओं ने फेड के रुख में कोई बदलाव नहीं किया है। वह 2024 में फेडरल फंड में 75 बेसिस प्वाइंट की कटौती पर कायम है। कई एफओएमसी अधिकारियों ने इसी तरह की भावनाओं जाहिर की हैं। ऐसे में फेड की नीति दर में तत्काल कोई कटौती की उम्मीद नहीं दिख रही है।

इसके बावजूद, अमेरिकी शेयरों में जोरदार तेजी देखने को मिली है। एसएंडपी 500 पहली बार 5000 अंक को पार कर गया और नैस्डैक एक साल के हाई पर पहुंच गया। इस उछाल का श्रेय निवेशकों के उस नए विश्वास को दिया जा रहा है जो कंपनियों के मजबूत नतीजों और अमेरिकी अर्थव्यवस्था की मजबूती को उजागर करने वाले आंकड़ों के दम पर आया है।

मजबूत अमेरिकी नौकरियों के आंकड़ों और पॉवेल की तीखी टिप्पणियों के बाद COMEX गोल्ड ने हफ्ते की शुरुआत कमजोरी के साथ की थी। पॉवेल की टिप्पणियों से संकेत मिलता है कि मार्च में दर में कटौती की संभावना नहीं है। अमेरिकी रीजनल बैंकों के हेल्थ से जुड़ी चिंताएं (विशेष रूप से कमर्शियल रियल एस्टेट (सीआरई) कर्जो से जुड़े जोखिम), मूडीज द्वारा एनवाईसीबी को उसके कमर्शियल रियल एस्टेट लोन से जुड़े बड़े घाटे के कारण जंक कटेगरी में डाउनग्रेड करने के बाद नजर में आए। ट्रेजरी सचिव जेनेट येलेन ने सीआरई घाटे के बारे में चिंताओं को स्वीकार किया लेकिन उन्होंने आश्वासन दिया कि नियामक वित्तीय प्रणाली में पर्याप्त लोन लॉस रिजर्व और नकदी की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए काम किया जा रहा है।

ईटीएफ से लगातार निकासी के कारण निवेश गतिविधि कमजोर रही। हालांकि, सोना एक बडी गिरावट को टालने में कामयाब रहा क्योंकि अमेरिकी डेट सेल का निवेशकों ने गर्मजोशी से स्वागत किया। उधर COMEX सिल्वर ने एक बुलिश एनगल्फ कैंडलस्टिक पैटर्न बनाया है जो आगामी सप्ताह में तेजी बने रहने का संकेत देता है। इस पैटर्न को केवल तभी नकारा जा सकता है जब यह 22.19 डॉलर प्रति ट्रॉय औंस के पैटर्न के निचले स्तर से नीचे चला जाए।

इजराइल द्वारा युद्धविराम वार्ता को खारिज करने से भू-राजनीतिक तनाव बढ़ गया जिसका असर ग्लोबल बाजारों पर पड़ा। कमोडिटी बाजार में, डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतों में तेजी आई। दक्षिणी लाल सागर में दो जहाजों पर हूती के हमलों और इस क्षेत्र में ईरानी बलों और प्रॉक्सी के खिलाफ अमेरिका की गंभीर होती कार्रवाई के कारण डब्ल्यूटीआई क्रूड 77 डॉलर प्रति बैरल के पार चला गया। मध्य पूर्व की स्थिति ने इज़राइल और हमास के बीच युद्धविराम की उम्मीदों पर पानी फेर दिया, जिससे कच्चे तेल की कीमतों में बढ़त हुई है।

SGB Issue: सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का इश्यू 12 फरवरी को खुलेगा, जानिए इसके बारे में अपने हर सवाल का जवाब

चीन में लगातार अपस्फीति (deflation) के दबाव और चीन के चंद्र नव वर्ष (Lunar New Year)की छुट्टियों से पहले इन्वेंट्री में रीजनल ग्रोथ के बीच एलएमई बेस मेटल्स को चुनौतियों का सामना करना पड़ा। चीन की उपभोक्ता कीमतों में 0.8 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिली जो वैश्विक वित्तीय संकट के बाद आई सबसे तेज गिरावट है। जबकि उत्पादक मूल्य सूचकांक (PPI) लगातार 16 महीनों तक अपस्फीति में फंसा रहा, जो घरेलू मांग और उपभोक्ता विश्वास में जोश भरने करने के लिए चीन के संघर्ष को दर्शाता है। पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना (पीबीओसी) द्वारा तरलता बढ़ाने जैसे प्रयासों के बावजूद, निवेशक बीजिंग के प्रोत्साहन उपायों की सफलता को लेकर संशय की स्थिति में हैं।

जनवरी में अमेरिका में रिटेल महंगाई 2.9% रहने की उम्मीद

आने वाले हफ्ते में बाजार का ध्यान अमेरिकी रिटेल महंगाई (सीपीआई) और खुदरा बिक्री आंकड़ों पर होगा। ब्लूमबर्ग के पूर्वानुमानों से पता चलता है कि जनवरी में अमेरिका में हेडलाइन सीपीआई दिसंबर की 3.4 प्रतिशत की तुलना में थोड़ी कम होकर 2.9 प्रतिशत पर रह सकती है और कोर सीपीआई दिसंबर के 3.9 प्रतिशत की तुलना में जनवरी में 3.7 प्रतिशत पर आ सकती है।

 मेटल्स में उतार-चढ़ाव कम रहने की उम्मीद

जियो पोलिटिकल रिस्क प्रीमियम के साथ महंगाई कम होने की उम्मीद आने वाले सप्ताह में सोने की कीमतों को सपोर्ट प्रदान कर सकती है। इसके अलावा चंद्र नववर्ष की छुट्टियों के लिए चीनी बाजार बंद होने के कारण इस अवधि के दौरान मेटल्स में उतार-चढ़ाव कम रहने की उम्मीद है।

डिस्क्लेमर: मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए विचार एक्सपर्ट के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदाई नहीं है। यूजर्स को मनी कंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले सर्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Disqus ( )