Adani Enterprises के कारोबार पर फिदा जेफरीज, कमजोर मार्केट में भी 2% उछल गए शेयर

Adani Enterprises के कारोबार पर फिदा जेफरीज, कमजोर मार्केट में भी 2% उछल गए शेयर

[ad_1]

Adani Group News: अदाणी ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी अदाणी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) के शेयर आज कमजोर मार्केट सेंटिमेंट में भी ग्रीन जोन में बने हुए हैं। इंट्रा-डे में यह 2 फीसदी से अधिक उछल गया था। इसके शेयरों में तेजी का यह रुझान विदेशी ब्रोकिंग फर्म जेफरीज (Jefferies) की रिपोर्ट के बाद आया जिसमें इसने अदाणी एंटरप्राइजेज की बाय कॉल के साथ कवरेज शुरू की है। इसके चलते अदाणी एंटरप्राइजेज के शेयर इंट्रा-डे में BSE पर 2.36 फीसदी उछलकर 3253.95 रुपये पर पहुंच गया। मुनाफावसूली के चलते भाव में थोड़ी नरमी आई है और फिलहाल यह 0.92 फीसदी की मजबूती के साथ 3208 रुपये पर है। पिछले हफ्ते 7 फरवरी 2024 को यह एक साल के हाई 3275.00 रुपये पर थे। पिछले साल 28 फरवरी 2023 को यह एक साल के निचले स्तर 1103 रुपये पर थे यानी कि एक साल से भी कम समय में यह 197 फीसदी मजबूत हुआ है।

Jefferies ने क्यों शुरू की कवरेज

जेफरीज के मुताबिक अदाणी एंटरप्राइजेज के शेयरों के लिए ग्रीन हाइड्रोजन मैनुफैक्चरिंग यूनिट्स और नवी मुंबई एयरपोर्ट की कमीशनिंग ट्रिगर के तौर पर काम कर रहे हैं। प्रोजेक्ट में देरी और लीवरेज इश्यू जैसे अहम रिस्क होने के बावजूद जेफरीज अदाणी एंटरप्राइजेज की ग्रोथ और निवेश क्षमता को लेकर काफी पॉजिटिव है।

अपनी हालिया रिपोर्ट में जेफरीज ने इस बात का उल्लेख किया था कि अदाणी एंटरप्राइजेज तेजी से अपने कारोबार को आगे बढ़ाया और पोर्ट्स, पावर, सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन, ट्रांसमिशन और एफएमसीजी जैसे कारोबार को वैल्यू अनलॉक की यानी कि इन्हें डीमर्ज कर दिया। अब इसका फोकस एयरपोर्ट्स, न्यू एनर्जी/ग्रीन हाइड्रोजन, डेटा सेंटर, सड़कों और कॉपर है जिसमें से कुछ अगले 10 साल में डीमर्ज भी हो सकती हैं।

Paytm Shares: RBI की कार्रवाई पर बदला ब्रोकरेजेज का मूड, 60% तक घटा दिया टारगेट प्राइस

अदाणी एंटरप्राइजेज के एयरपोर्ट बिजनेस की बात करें तो इसके पास भारतीय पैसेंजर ट्रैफिक का 23 फीसदी हिस्सा है। इसके पास देश के 8 एयरपोर्ट्स हैं जिसमें से एक नवी मुंबई एयरपोर्ट जल्द ही शुरू होने वाला है। अपने नए कारोबार को बनाने के लिए कंपनी वित्त वर्ष 2024-28 के बीच सालाना 500 करोड़-700 करोड़ का निवेश करेगी।

ब्रोकरेज फर्म का मानना है कि इसकी बैलेंस शीट अब कैपिटल एक्सपेंडिचर के लिए तैयार है क्योंकि नेट डेट और EBITDA का रेश्यो वित्त वर्ष 2014-18 में औसतन 6 गुने से अधिक के लेवल से यह वित्त वर्ष 2023 में घटकर 3.2 गुने पर आ गया है। ब्रोकरेज के मुताबिक यह रेश्यो एक बार फिर 6x का लेवल छू सकता है लेकिन फंड जुटाने के अवसरों के चलते इसे लेकर चिंता की कोई बात नहीं है। जेफरीज का मानना है कि अदाणी एंटरप्राइजेज का EBITDA वित्त वर्ष 2023 से वित्त वर्ष 2026 तक दोगुना हो जाएगा और वित्त वर्ष 2028 तक तीन गुना हो जाएगा। नए कारोबार का कंसालिडेटेड EBITDA में हिस्सेदारी मौजूदा 40 फीसदी से बढ़कर वित्त वर्ष 2026 में करीब 75 फीसदी और वित्त वर्ष 2028 में 85 फीसदी पर पहुंच जाएगी।

Adani Enterprises के लिए क्या है टारगेट प्राइस

जेफरीज के मुताबिक अदाणी एंटरप्राइजेज के शेयर अभी वित्त वर्ष 2025 के अनुमानित EV/EBITDA के हिसाब से 28 गुने और वित्त वर्ष 2026 के हिसाब से 22 गुने भाव पर है। जेफरीज इसे निवेश के मौके के तौर पर देख रही हैं। इसका अनुमान है कि वित्त वर्ष 2026 तक कंपनी का EBITDA दोगुना होकर 21449 करोड़ रुपये पर पहुंच जाएगा। इन सब बातों को मिलाकर ब्रोकरेज ने अदाणी एंटरप्राइजेज में निवेश के लिए 3800 रुपये का टारगेट फिक्स किया है।

डिस्क्लेमर: मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए सलाह या विचार एक्सपर्ट/ब्रोकरेज फर्म के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदायी नहीं है। यूजर्स को मनीकंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले हमेशा सर्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )