म्यूचुअल फंड्स ने तीसरी तिमाही में 70% निफ्टी स्मॉलकैप, मिडकैप शेयरों में बढ़ाई हिस्सेदारी

म्यूचुअल फंड्स ने तीसरी तिमाही में 70% निफ्टी स्मॉलकैप, मिडकैप शेयरों में बढ़ाई हिस्सेदारी

[ad_1]

Mutual Funds stakes in Nifty smallcap and midcap: Ace Equities के आंकड़ों के अनुसार, निफ्टी मिडकैप 100 और निफ्टी स्मॉलकैप 100 इंडेक्से के लगभग 70 प्रतिशत शेयरों ने दिसंबर 2023 तिमाही में म्यूचुअल फंड हिस्सेदारी में तिमाही आधार पर वृद्धि दर्ज की। 2023 में, निफ्टी मिडकैप100 और निफ्टी स्मॉलकैप100 इंडेक्स क्रमशः 46 प्रतिशत और 55.6 प्रतिशत से अधिक बढ़े। जबकि दिसंबर तिमाही में वे 14 प्रतिशत और 19 प्रतिशत से अधिक उछले थे। इस साल अब तक उनमें से प्रत्येक को 6 प्रतिशत की बढ़त देखने को मिली है।

निफ्टी मिडकैप 100 में, फोर्टिस हेल्थकेयर की म्यूचुअल फंड होल्डिंग में सबसे तेज 6.55 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। यह पिछली तिमाही के 18.49 प्रतिशत से बढ़कर 25.05 प्रतिशत हो गई। वहीं पेट्रोनेट एलएनजी की म्यूचुअल फंड होल्डिंग 5.08 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 9.92 प्रतिशत पर पहुंच गई। जबकि मैनकाइंड फार्मा, वोल्टास, अपोलो टायर्स, अरबिंदो फार्मा और बैंक ऑफ इंडिया 3 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखने को मिली

यूनाइटेड ब्रुअरीज लिमिटेड की म्यूचुअल फंड होल्डिंग्स में लगातार 13वीं तिमाही में वृद्धि हुई। जी एंटरटेनमेंट की म्यूचुअल फंड होल्डिंग्स में नौ तिमाही, ल्यूपिन लिमिटेड और महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज की आठ तिमाहियों, और टोरेंट पावर लिमिटेड की सात तिमाही में वृद्धि हुई। बायोकॉन, दीपक नाइट्राइट और पेट्रोनेट एलएनजी म्यूचल फंड होल्डिंग्स में लगातार छह तिमाहियों में बढ़त देखी गई। ऑयल इंडिया में पांच और डिक्सन टेक्नोलॉजीज इंडिया, अरबिंदो फार्मा और वोल्टास में चार तिमाहियों में वृद्धि देखी गई।

निफ्टी स्मॉलकैप 100 में, कंप्यूटर एज मैनेजमेंट की म्यूचुअल फंड हिस्सेदारी में सबसे बड़ी वृद्धि हुई, जो तिमाही में 3.78 प्रतिशत से बढ़कर 11.25 प्रतिशत हो गई। इसी अवधि में इंडियन एनर्जी एक्सचेंज, ग्रेन्यूल्स इंडिया, करूर वैश्य बैंक और बीएसई लिमिटेड में भी 3 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी बढ़ी।

कल्याण ज्वैलर्स ने लगातार आठ तिमाहियों के लिए म्यूचुअल फंड हिस्सेदारी में वृद्धि दर्ज की। एफल इंडिया लिमिटेड ने सात तिमाहियों के लिए, जुबिलेंट इंग्रेविया ने छह तिमाहियों के लिए और बीकाजी फूड्स इंटरनेशनल लिमिटेड, कैन फिन होम्स लिमिटेड, फर्स्टसोर्स सॉल्यूशंस लिमिटेड, रेमंड लिमिटेड और मेट्रोपोलिस हेल्थकेयर लिमिटेड ने लगातार पांच तिमाहियों के लिए म्यूचुअल फंड हिस्सेदारी में बढ़ोतरी दर्ज की।

बाजार ने किया बाउंसबैक, उतार-चढ़ाव के बीच 1% की बढ़त दिखाई, रुपया रहा सपाट

निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स में फेडरल बैंक, पर्सिस्टेंट सिस्टम्स, अशोक लीलैंड, टाटा केमिकल्स और इंडियन होटल्स में म्यूचुअल फंड्स ने अपनी हिस्सेदारी 1 प्रतिशत से अधिक घटा दी। निफ्टी स्मॉलकैप 100 इंडेक्स में, एमसीएक्स में म्यूचुअल फंड्स ने हिस्सेदारी में 4.4 प्रतिशत की कटौती की। इसके बाद सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड, नैटको फार्मा और बिड़लासॉफ्ट ने हिस्सेदारी में क्रमशः 3.4 प्रतिशत, 2.5 प्रतिशत और 2.2 प्रतिशत की कटौती की है।

मनीकंट्रोल के साथ हाल ही में एक साक्षात्कार में InCred Wealth के निवेश प्रमुख, योगेश कलवानी ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि आने वाले वर्ष में स्मॉलकैप और मिडकैप वैल्यूएशन सामान्य हो जाएंगे। बाजार ने लोकसभा चुनावों और प्रमुख मौद्रिक नीति निर्णयों के साथ इस वर्ष के लिए पॉजिटिव फैक्टर्स को ध्यान में रखा है।

उन्होंने सुझाव दिया कि इस समय स्मॉलकैप और मिडकैप निवेशों से मुनाफा बुक करने में समझदारी है। इसकी वजह ये है कि शेयरों में तेज वृद्धि हुई है। इस मार्केट सेगमेंट में आवंटन कम करने का सुझाव भी उन्होंने दिया।

डिस्क्लेमर: (यहां मुहैया जानकारी सिर्फ सूचना हेतु दी जा रही है। यहां बताना जरूरी है कि मार्केट में निवेश बाजार जोखिमों के अधीन है। निवेशक के तौर पर पैसा लगाने से पहले हमेशा एक्सपर्ट से सलाह लें। मनीकंट्रोल की तरफ से किसी को भी पैसा लगाने की यहां कभी भी सलाह नहीं दी जाती है।)

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )