बीते हफ्ते सेंसेक्स ने हिट किया रिकॉर्ड हाई, अगले हफ्ते निफ्टी 22,000 के स्तर के लिए लगाएगा दौड़

बीते हफ्ते सेंसेक्स ने हिट किया रिकॉर्ड हाई, अगले हफ्ते निफ्टी 22,000 के स्तर के लिए लगाएगा दौड़

[ad_1]

भारतीय बाजारों में इस हफ्ते मामूली बढ़त देखने को मिली है। बेंचमार्क इंडेक्स एनएसई निफ्टी 50 और बीएसई सेंसेक्स 0.7 फीसदी की बढ़त के साथ बंद हुए। ये इस हफ्ते नए ऑलटाइम हाई पर पहुंच गए। हालांकि कमजोर ग्लोबल संकेतों के बीच बाजार ने हफ्ते की शुरुआत धीमी गति से की थी, लेकिन जैसे ही निवेशकों ने दिसंबर तिमाही (Q3FY24) की नतीजों के मौसम में कदम रखा यह मजबूती से रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। विश्लेषक बाजार के आउटलुक को लेकर बुलिश हैं। लेकिन निवेशकों को उनकी सावधानी बरतने की सलाह है। उनका मानना है कि तीसरी तिमाही के नतीजे बाजार में वोलैटिलिटी ला सकते हैं।

रेलिगेयर ब्रोकिंग के अजीत मिश्रा का कहना है कि 22,000 का आंकड़ा निश्चित रूप हासिल होगा। निफ्टी अगले हफ्ते में ही 22,150 के स्तर को पार करता दिख सकता है। उनका कहना है कि इंफोसिस और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) के तीसरी तिमाही के नतीजे मजबूत रहो हैं। ऐसे में हमें आईटी शेयरों पर नजर रखनी चाहिए। आगे इनमें तेजी देखने को मिल सकती है। इसके अलावा बैंक तीसरी तिमाही के नतीजे देने की तैयारी में हैं। हमें निजीं बैंकों में भी अच्छा एक्शन देखने को मिल सकता है।

12 जनवरी को खत्म हुए हफ्ते में निफ्टी आईटी इंडेक्स में 4 फीसदी से ज्यादा की बढ़त देखने को मिली। एचसीएल टेक्नोलॉजीज, इंफोसिस, टीसीएस और टेक महिंद्रा से इस इडेक्स को जोरदार सपोर्ट मिला। टेक दिग्गज टीसीएस और इन्फोसिस के तीसरी तिमाही के प्रदर्शन ने टेक शेयरों के लिए अच्छा महौल बना दिया है।

TCS ऑल टाइम हाई के लिए तैयार, इंफोसिस का सपोर्ट ऊपर की तरफ हुआ शिफ्ट, गिरावट में करें खरीदारी

फिडेंट एसेट मैनेजमेंट के संस्थापक और सीआईओ ऐश्वर्या दाधीच का कहना है कि तीसरी तिमाही आम तौर पर आईटी सेक्टर के लिए मौसमी रूप से कमजोर तिमाही होती है। लेकिन इंफोसिस और टीसीएस के तीसरी तिमाही के नतीजों को बाजार को खुश कर दिया है। आगे अमेरिकी फेडरल रिजर्व का ब्याज दरों पर आने वाला फैसला बाजार को सपोर्ट करेगा। ऐश्वर्या का सुझाव है कि निवेशकों वित्त वर्ष 2025 के नजरिए से टेक्नोलॉजी शेयरों में अपना निवेश बढ़ाना चाहिए।

आईटी के साथ ही इस हफ्ते निफ्टी रियल्टी और ऑटो इंडेक्स में भी 4 फीसदी और 1 फीसदी से अधिक की बढ़त देखने को मिली। इसके विपरीत, निफ्टी एफएमसीजी इंडेक्स इस सप्ताह सबसे बड़ी गिरावट वाला रहा इंडेक्स रहा। इसमें 2 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई। निवेशकों का अंदाजा है कि तीसरी तिमाही में एफएमसीजी कंपनियों के नतीजे कमजोर रह सकते हैं।

इस बीचे बीते हफ्ते ब्रॉडर इंडेक्सों की चमक जारी रही, निफ्टी स्मॉलकैप 100 इंडेक्स 0.7 फीसदी बढ़कर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स जो 0.2 फीसदी बढ़ा। हालांकि, बाजार का ये भी कहना है कि मिड और स्मॉलकैप अब काफी महंगे हो गए हैं और ये ‘बबल जोन’ में दिख रहे हैं।

अगले हफ्ते के लिए ट्रेड सेटअप

इस हफ्ते की जोरदार तेजी के बाद अगले हफ्ते बाजार की दिशा तय करने में थोक महंगाई के आंकड़े (डब्ल्यूपीआई) और तीसरी तिमाही के नतीजे बड़ी भूमिका निभाएंगे। अगले हफ्ते एचडीएफसी बैंक, इंडसइंड बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के दिसंबर तिमाही के नतीजे आने वाले हैं। बाजार जानकारों की राय है कि तीसरी तिमाही में बैंकिंग सेक्टर के नतीजे बेहतर रहेंगे। लेकिन फंड की बढ़ती लागत या उधार लेने की लागत उन्हें प्रभावित कर सकती है।

प्रभुदास लीलाधर की वैशाली पारेख का कहना है कि तकनीकी रूप से देखें तो बैंक निफ्टी को आगे बढ़ने के लिए अब 48,000-48,200 के रजिस्टेंस को तोड़ कर मजबूती दिखानी होगी।

एलकेपी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ तकनीकी और डेरिवेटिव विश्लेषक कुणाल शाह का सुझाव है कि ट्रेडर्स को किसी भी गिरावट पर खरीदारी के मौके तलाशने चाहिए। मोमेंटम इंडिकेटर आरएसआई ने एक बॉय क्रॉसओवर भी दिया है, जो बाजार में तेजी की भावना बनी रहने की पुष्टि करता है।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )