पेटीएम पेमेंट्स बैंक को उम्मीद थी कि कमियां दूर करने की उसकी कोशिशों से RBI संतुष्ट होगा

पेटीएम पेमेंट्स बैंक को उम्मीद थी कि कमियां दूर करने की उसकी कोशिशों से RBI संतुष्ट होगा

[ad_1]

Paytm Payments Bank की लेटेस्ट एनुअल रिपोर्ट (FY23) से पता चलता है कि बोर्ड को इस बात का भरोसा था कि कामकाज से जुड़ी कमियों को दूर करने के लिए बैंक की तरफ से किए गए उपायों से RBI संतुष्ट होगा। केंद्रीय बैंक ने बैंक के आईटी प्रोसेसेज और KYC प्रोसेसेज सहित कुछ मसलों के बारे में बैंक को बताया था। 31 जनवरी को RBI ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक के खिलाफ कड़े कदम उठाए। कई तरह की सेवाओं पर रोक लगा दी गई। नए डिपॉजिट लेने पर रोक लगा दी गई। तब से पेटीएम की पेरेंट कंपनी One97 Communications (OCL) के स्टॉक की कीमत 42 फीसदी से ज्यादा गिर गई थी। 5 फरवरी को यह स्टॉक 438 रुपये पर बंद हुआ। 6 फरवरी को इसमें कुछ रिकवरी देखने को मिली।

बैंक ने एनुअल रिपोर्ट में कंप्लायंस को लेकर अपनी प्रतिबद्धता बताई है

एनुअल रिपोर्ट में बोर्ड के डायरेक्टर्स ने यह बताया है कि बैंक ने बताए गए जरूरी उपाय किए हैं। इनमें कई तरह के उपाय शामिल हैं। उन्हें वैलिडेशन के लिए RBI के पास भेजे गए हैं। इस तरह बैंक ने रेगुलेटरी कंप्लायंस के साथ ही अपने सिस्टम और प्रोसेसेज को मजबूत बनाने की अपनी प्रतिबद्धता दिखाई है। बैंक के ये रिस्पॉन्स मार्च 2022 में RBI के एक्शन के बाद दिए गए। तब केंद्रीय बैंक ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक को कामकाज में गड़बड़ी के बाद नए कस्टमर्स नहीं बनाने को कहा था।

यह भी पढ़ें: High Profits Stocks: लोकसभा चुनाव के बाद ये 4 स्टॉक्स भर देंगे आपकी झोली, अभी निवेश का है गोल्डन चांस

RBI ने बैंक के कामकाज की जांच के लिए एक्सटर्नल ऑडिटर नियुक्त किया था

RBI ने बाद में एक एक्सटर्नल इंडिपेंडेंट ऑडिटर नियुक्त किया था। उसे पेटीएम पेमेंट बैंक के आईटी सिस्टम की व्यापक जांच करने को कहा गया था। केंद्रीय बैंक ने अक्टूबर 2022 में ऑडिट रिपोर्ट जारी की थी। इसमें आईटी आउटसोर्सिंग प्रोसेसेज और ऑपरेशनल रिस्स मैनेजमेंट में लगातार सुधार की जरूरत बताई गई थी। KYC/AML (एंटी-मनी लाउंड्रिंग) प्रोसेसेज में भी सुधार करने को कहा गया था।

RBI ने 31 मार्च तक कमियां दूर करने को कहा था

पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने दिसंबर 2022 में RBI को बताया कि वह केंद्रीय बैंक की तरफ से बताई गई कमियों को दूर करने की कोशिश कर रहा है। इसके जवाब में केंद्रीय बैंक ने कुछ खास कदम उठाने और कंप्लायंस बढ़ाने का निर्देश बैंक को दिया था। बैंक से 31 मार्च, 2023 तक ये काम पूरे कर लेने को कहा गया था। बैंक ने जब FY23 की एनुअल रिपोर्ट तैयार की तब RBI में वैलिडेशन प्रोसेस चल रहा था। बैंक को RBI के रिस्पॉन्स का इंतजार था।

रेगुलेटर के साथ मिलकर बैंक अपने सिस्टम को मजबूत बना रहा था

पेटीएम पेमेंट्स बैंक की एनुअल रिपोर्ट में उन कई उपायों के बारे में बताया गया था, जिन पर बैंक काम कर रहा था। यह भी बताया गया था कि बैंक कंप्लायंस को और बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। एनुअल रिपोर्ट में कहा गया था कि इन उपायों से पता चलता है कि हम रेगुलेटर के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
TAGS
Share This

COMMENTS

Disqus ( )