चीनी शेयर बाजार में गिरावट को कंट्रोल करने के लिए रेगुलेटर कमीशन में नए बॉस की नियुक्ति

चीनी शेयर बाजार में गिरावट को कंट्रोल करने के लिए रेगुलेटर कमीशन में नए बॉस की नियुक्ति

[ad_1]

चीन की सरकार ने एक आश्चर्यजनक फैसले में अपने सिक्योरिटीज मार्केट रेगुलेटर के हेड को बदल दिया है। चीन के शेयर बाजारों में हाल में भारी बिकवाली देखने को मिली थी। चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ (Xinhua) के मुताबिक, बैंकिंग एक्सपर्ट वू क्विंग (Wu Qing) चाइना सिक्योरिटीज रेगुलेटरी कमीशन के नए चेयरमैन होंगे। उन्होंने साल 2000 के दशक में ट्रेडर्स पर काफी शिकंजा कसा था और वह ब्रोकरों पर सख्ती के लिए जाने जाते हैं। क्विंग मौजूदा चेयरमैन यी हुइमन (Yi Huiman) की जगह लेंगे।

चीन दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टॉक मार्केट है। पिछले कुछ महीने से चाइनीज स्टॉक मार्केट में भारी बिकवाली देखने को मिल रही है और वहां का रेगुलेटर इस पर अंकुश लगाने में नाकाम रहा है। चीन और हॉन्गकॉन्ग के शेयर बाजार की वैल्यू में 2021 से अब तक तक तकरीबन 7 लाख करोड़ डॉलर की गिरावट हो चुकी है। जुहाई ग्रीनबैंबू प्राइवेट फंड मैनेजमेंट ( Zhuhai Greenbamboo) के मैनेजिंग डायरेक्टर जियांग लियांगक्विंग (Jiang Liangqing) ने बताया, ‘मेरे हिसाब से यह बदलाव काफी जरूरी थी। अगर एक बॉस इससे नहीं निपट सकता है, तो किसी और को मौका दिया जाना चाहिए।’

उन्होंने कहा, ‘हुइमन के काम करने का तरीका सख्त नहीं था। वह बाजार को ज्यादा स्वतंत्रता देते थे, जबकि यह बात पहले ही साबित हो चुकी है कि ज्यादा स्वतंत्रता वाला फॉर्मूला यहां काम नहीं करता है।’ हुइमन 2019 से चाइना सिक्योरिटीज रेगुलेटरी कमीशन (CSRC) के चेयरमैन थे। इससे पहले 2016 में बाजार में भयंकर बिकवाली के बाद मार्केट रेगुलेटर के नए चीफ की नियुक्ति हुई थी।

हुइमन को अचानक से हटाने के फैसले ने सबको हैरान कर दिया है, लेकिन CSRC में नई भर्ती को लेकर पिछले साल से ही सुगबुगाहट शुरू हो गई थी। वित्तीय गड़बड़ियों और जोखिम को रोकना चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) की सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल है। वू के सख्त रवैये और गलतियों को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति से वह अपने लक्ष्य को हासिल करने में कामयाब हो सकते हैं।

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )