कंपनी के मालिक के खिलाफ कोर्ट से अरेस्ट वारंट जारी, 5% लुढ़का शेयर, कहीं आपने तो नहीं किया निवेश?

कंपनी के मालिक के खिलाफ कोर्ट से अरेस्ट वारंट जारी, 5% लुढ़का शेयर, कहीं आपने तो नहीं किया निवेश?

[ad_1]

वेरेनियम क्लाउड लिमिटेड के शेयरों का भाव शुक्रवार 22 मार्च को करीब 5 प्रतिशत का गोता लगाकर अपनी लोअर सर्किट पर पहुंच गया। कंपनी के शेयरों में यह गिरावट उसके प्रमोटर हर्षवर्द्धन साबले (Harshawardhan Sabale) के खिलाफ गैर-जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद आया। यह गिरफ्तारी वारंट बॉम्बे हाई कोर्ट ने जारी किया है। लाइव लॉ वेबसाइट के मुताबिक, साबले के ऊपर करीब 49.53 करोड़ रुपये का कर्ज न चुका पाने का आरोप है। हाई कोर्ट ने 1 अप्रैल की समय सीमा के साथ वाटंर जारी किया है।

वेरेनियम क्लाउड लिमिटेड के शेयरों में अक्टूबर 2023 से ही गिरावट देखी जा रही है। इसके शेयरों का पिछले एक साल का उच्चतम स्तर 240 रुपये है, जहां से स्टॉक में करीब 80 प्रतिशत की गिरावट आ चुकी है।

लाइव लॉ रिपोर्ट का हवाला देते हुए, वेरेनियम क्लाउड ने कहा कि मामला फिलहाल कोर्ट में विचाराधीन है और यह साबले का व्यक्तिगत मामला है। कंपनी ने 21 मार्च को NSE को बताया, “वेरेनियम क्लाउड लिमिटेड और उसकी संपत्तियां सुरक्षित हैं और इन कानूनी मामलों की कार्यवाही और परिणामों का इसपर असर नहीं पड़ेगा।”

इस बीच क्रेडिटर चेराग शाह ने हर्षवर्द्धन साबले और ओगल टेक्नोलॉजीज लिमिटेड से 6 प्रतिशत ब्याज के साथ मध्यस्थता अदालत से जीते 44.4 लाख डॉलर के मुआवजे की वसूली के लिए कोर्ट से हस्तक्षेप की मांग की। यह मुकदमा साबले की ओर से विकसित किए गए टेक्नोलॉजी में चेराग शाह के दाव से जुड़ा हुआ है। चेराग शाह, इस टेक्नोलॉजी के लिए शुरुआती निवेशकों में से एक थे।

साबले ने मध्यस्थता अदालत के फैसले को चुनौती दी, जिसके कारण शाह ने इसके एग्जिक्यूशन की कार्यवाही शुरू की। वेरेनियम ने कहा, इसी याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट ने आदेश पारित किया है। कोर्ट ने मुंबई पुलिस कमिश्नर से कहा कि साबले की अदालत में उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए इंटरपोल से रेड कॉर्नर नोटिस जारी करवाएं और इसमें विदेश मंत्रालय की मदद लें।

हाईकोर्ट ने साबले के डीमैट खातों को मैनेज करने और वेरेनियम क्लाउड लिमिटेड में उनके गैर-गिरवी शेयरों को जब्त करने के लिए एक रिसीवर भी नियुक्त किया है। यह रिसीवर साबले के साथ ACML कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड के डीमैट खाते भी मैनेज करेगा। कोर्ट ने साबले को अगली सूचना तक उसके बैंक या इनवेस्टमेंट खातों तक पहुंचने और शेयरों के ट्रेड करने से भी बैन कर दिया है।

यह भी पढ़ें- IDFC First Bank के MD ने गिफ्ट किए 7 लाख शेयर, कीमत पर क्या असर

[ad_2]

Source link

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

Disqus ( )